Home > Hindi Poems > बहिखाता 2

बहिखाता 2

कुछ फ़ुर्सत के पलों में आज,
यादों के पन्नो को पलट रहा था |
क्या मिला और क्या छूटा अब तक,
शायद हिसाब लगा रहा था |

सयुंक्त परिवार में सींचा गया,
एक स्मरणीय बचपन बीता |
प्रेम सौहार्द और एकात्मता का,
बालपन में पाठ सीखा |

एक नहीं, कुटुंभ में,
बहनें थीं पाँच,
अब भी आता है याद मुझे,
खेल वो घर-घर का आज |

अलग होती थी, वो होली तब,
होते हम सब इकट्ठे जब |
घर में आते रंग-गुलालें,
छनते रसोई में,
गुझिया और माल-पुए |
माँ बड़ी-माँ और होतीं चाची,
साथ में होते दादा-दादी |
आरंभ करते आशीर्वाद लेकर,
लौटते सांझ तले, होली खेलकर |

वो दीवाली कितनी प्रकाशवान होती,
दीपों से जब बहनें, घर को सजातीं |
घर के बड़े पटाखे जलाते,
हम छुर-छुरिया पर मोहित होते |
नये वस्त्र में लिपटे होते,
अनार चरखी देख आनंदित होते |
छोटी बहन की छुर-छुरिया छीन,
भागता जब मैं, तो वो रोती,
वो दीवाली कितनी प्रकाशवान होती |

पन्नो को बार-बार पलटा,
जाने कितने बार देखा,
कुछ खोया, या निर्गामी, दिख रहा नही था |
हाँ जीवन की इस आपा-धापी में,
उस अमुल्य बचपन से दूर अब हो रहा था,
वो अनुभव, अब यादों में परिवर्तित हो रहा था |
जब खाते में देखा हाल के दीनो की प्रविष्टि,
तो बहिखाता मेरा, बस निर्गामी दर्शा रहा था |

Add to FacebookAdd to DiggAdd to Del.icio.usAdd to StumbleuponAdd to RedditAdd to BlinklistAdd to TwitterAdd to TechnoratiAdd to Yahoo BuzzAdd to Newsvine

Advertisements
Categories: Hindi Poems Tags: ,
  1. pooja
    February 8, 2010 at 6:13 pm

    Wah wah wah
    love u

  2. Tanweer Noor
    February 8, 2010 at 6:18 pm

    bahut fursat main rahte ho dost 🙂

    • Anupam Singh
      February 8, 2010 at 6:24 pm

      ha ha ha ….. sahi pehchana dost 😉

  3. Prashant Singh Rana
    February 9, 2010 at 12:48 pm

    Kya Baat hai.
    Bahoot Bahoot Accha hai.

    -Rana

  4. Nayan
    February 13, 2010 at 1:47 pm

    Too good….
    Get this o ne published……
    Beautiful

  1. No trackbacks yet.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: