Archive

Archive for July, 2010

Aashaa

July 26, 2010 5 comments

आशा

किंकर्तव्यविमूढ़ हुआ मैं, झाँक रहा था खिड़की से |

कि ढलते सूरज की क़िरणें, आ टकराई पलकों से |

अंबर पर छाती काली निशा, खाती किरणों को तेजी से |

बढ़ती नभ में कालीमा, हो जैसे व्याकुल कहने को |

हर रैन ले आती है संग अपने, आशा इक उजले सवेरे की ||

ले सबक मैं प्रकृति से, पट खिड़की का बंद किया |

छत को देख अंधेरे कमरे में, फिर गहरी सी साँस लिया |

कुछ पल विचरण करने को, जा पहुँचा अतीत के आँगन में |

पाया समय ना कभी समान रहा, परसों कल और आज में |

तो क्यों ना करे कल उषा की आशा, जब वर्तमान मिला हो निष्प्रभ में ||

Add to FacebookAdd to DiggAdd to Del.icio.usAdd to StumbleuponAdd to RedditAdd to BlinklistAdd to TwitterAdd to TechnoratiAdd to Yahoo BuzzAdd to Newsvine

Categories: Hindi Poems Tags: ,

Sachin Chalisa

July 12, 2010 11 comments

जै सचिन कौशल गुण सागर, जै तेंदुलकर तिहु लोक उजागर |
क्रिकेट दूत अतुलित बाल धामा, रजनी पुत्र रमेश सूत नामा ||

महावीर तुम क्रिकेट के बजरंगी, पराजय निवार विजय के सन्गी |
गेहुवा वरण विराज सुबेसा, मुख पर मुसकान घुंघराले केशा ||

हाथ बैट और तिरंगा विराजे, काँधे राष्ट्र का गौरव साजे |
ब्रैडमैन सूवन रमेश के नंदन, तेज प्रताप महा जग वंदन ||

तेजवान गुनि अति चातुर, राष्ट्र हित प्रदर्शन करने को आतुर |
शत्रु विध्वंस करिबे को रसिया, तुम जन-जन के हो मान बसिया ||

गेंदबाज रूप धरी हीरो कप जितायो, बल्लेबाज रूप में धूल चटायो |
हरफ़नमौला बन अस्ट्रेलिया संहारे, भारतवर्ष के स्वप्न संवारे ||

संपूर्ण विश्व तुम्हारो यश गावे, है इच्छा तुम्हे कंठ लगावे |
गावस्कर लाय्ड सोबर्स जैसा, है तू ब्रॅड्मन रिचर्ड्स हेमंड जैसा ||

तुम्हारो मन्त्र सब जग माने, विश्वेश्वर भए हम सब जाने |
सत्रह हज़ार रन ऐसे बनाए, जैसे कोई मधुर फल खाए ||

सब जन आशा हृदय रख माही, बीस वर्ष लाँघ गये अचरज नाही |
दुर्गम रेकार्ड जगत के जेते, सुगम अनुग्रह टुम्हारे तेते ||

आपन बल्ला समहारो आपे, ये भूलोक हांक से कापे |
कोई प्रतिद्वंदी निकट नही आवे, सचिन तेंदुलकर जब नाम सुनावे ||

चारो जुग प्रताप तुम्हारा, सचिन नाम से हो ये जग उजियारा |
विपदा में टीम के तुम रखवारे, विरोधी निकंदन हम सब के दुलारे ||

Add to FacebookAdd to DiggAdd to Del.icio.usAdd to StumbleuponAdd to RedditAdd to BlinklistAdd to TwitterAdd to TechnoratiAdd to Yahoo BuzzAdd to Newsvine

Categories: Hindi Poems Tags: ,