Home > Hindi Poems > Aashaa

Aashaa

आशा

किंकर्तव्यविमूढ़ हुआ मैं, झाँक रहा था खिड़की से |

कि ढलते सूरज की क़िरणें, आ टकराई पलकों से |

अंबर पर छाती काली निशा, खाती किरणों को तेजी से |

बढ़ती नभ में कालीमा, हो जैसे व्याकुल कहने को |

हर रैन ले आती है संग अपने, आशा इक उजले सवेरे की ||

ले सबक मैं प्रकृति से, पट खिड़की का बंद किया |

छत को देख अंधेरे कमरे में, फिर गहरी सी साँस लिया |

कुछ पल विचरण करने को, जा पहुँचा अतीत के आँगन में |

पाया समय ना कभी समान रहा, परसों कल और आज में |

तो क्यों ना करे कल उषा की आशा, जब वर्तमान मिला हो निष्प्रभ में ||

Add to FacebookAdd to DiggAdd to Del.icio.usAdd to StumbleuponAdd to RedditAdd to BlinklistAdd to TwitterAdd to TechnoratiAdd to Yahoo BuzzAdd to Newsvine

Advertisements
Categories: Hindi Poems Tags: ,
  1. July 27, 2010 at 5:25 am

    Bahut khoob sarkaar!!

    Cheers!!

  2. Anupam
    July 27, 2010 at 5:45 am

    dhanyawaad dost… 🙂

  3. anoop
    July 27, 2010 at 1:05 pm

    You are lucky that you can see the setting sun from your window on weekdays. I have that privilege on weekends only. 😉

    par bahut khub bahut khub bahut khub………..

  4. July 30, 2010 at 5:07 am

    अपने ख्यालों को व्यक्त करना एक कला है और आप इस कला में माहिर हो चुके हैं.

  5. Subbu
    August 17, 2010 at 10:55 am

    बहुत अच्चा कविता है आपका. परन्तु थोडा निराशा का झलक क्यूँ है इस मे?

  1. No trackbacks yet.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: